जयपुर को गुलाबी नगरी (पिंक सिटी) के नाम से क्यों जाना जाता है


जयपुर भारत के पुराने शहरों में से एक है जिसे पिंक सिटी (Pink City) के नाम से जाना जाता है। राजस्थाान राज्यश की राजधानी कही जाने वाली जयपुर शहर (Jaipur City) एक आधे रेगिस्तानी क्षेत्र में फैला हुआ है। इस खूबसूरत शहर को अम्बेर के राजा महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा बंगाल के एक वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य की मदद से बनबाया गया था। यह भारत का पहला एक ऐसा शहर है जिसे वास्तु शास्त्रा के अनुसार बनाया गया था।

जयपुर पिंक सीटी के नाम से लोकप्रिय है क्योंकि यहाँ की संरचनाओं के निर्माण के लिए गुलाबी रंग के पत्थर का इस्तेमाल किया गया है। गुलाबी रंग का अपना एक इतिहास है।

Jaipur ko pink city kyon kaha jata hai

सन 1876 में इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ और प्रिंस ऑफ वेल्स युवराज अल्बर्ट जयपुर आने वाले थे। उस समय जयपुर के महाराजा सवाई रामसिंह इनकी तैयारियों में जुटे थे। इनके स्वागत के लिए पूरे जयपुर शहर को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा था। शहर की सड़कें साफ कर उनके किनारे फूल-पत्तियां लगाई जा रही थीं।

महाराजा सवाई रामसिंह के मन में सूझा कि क्यों न पूरे शहर को एक रंग में रंग दिया जाए। फिर उन्होंने उच्च अधिकारियों से इस बात की बैठक की और परकोटे में स्थित पूरे शहर को गुलाबी रंग से रंग दिया। उसके बाद से यह शहर गुलाबी हो गया जो बाद में चलकर गुलाबी नगर के नाम से जाना जाने लगा। जयपुर, राजस्थान की राजधानी होने के अलावा, राज्य का सबसे बड़ा शहर भी है।

शहर का गुलाबी रंग हर किसी के दिल को लुभाने वाला एक रोमांटिक आकर्षण लाता है। गुलाबी शहर ऐतिहासिक स्थलों और भव्य स्मारकों का घर है। यह गुलाबी नगरी इतनी खुबसुरत है की यहाँ लोग दूर दराजों से भ्रमण करने आते है

जयपुर को गुलाबी नगरी (पिंक सिटी) के नाम से क्यों जाना जाता है जयपुर को गुलाबी नगरी (पिंक सिटी) के नाम से क्यों जाना जाता है Reviewed by Jokes me on August 04, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.